अच्छे ज्योतिष कैसे हों ?

This image represents a question in the mind of someone. This is symbolic of अच्छे-ज्योतिष-कैसे-हों

CORONA महामारी के चलते ज्योतिष का महत्तव बढ़ गया है। कहीं हम गलत व्यक्ति के चक्कर में न पड़ जाऐं, इसलिए हमें जानना चाहिए कि अच्छे ज्योतिष कैसे हों?

कुछ दिन पहले ही RationalAstro पर अंग्रेज़ी में एक article लिखा था Qualities of an Astrologer. उस समय CORONA या COVID19 महामारी से विश्व अनभिज्ञ था। आज पूरा विश्व कोरोना या कोविड महामारी से जूझ रहा है। ज्योतिषियों का महत्तव भी अचानक से बढ़ गया है। आजकल लोग अच्छे ज्योतिष का नंबर या कोई अच्छे ज्योतिष का पता पूछते नज़र आते हैं। सबसे अच्छे ज्योतिष कौन हैं यह प्रश्न भी बहुत पूछा जा रहा है।

ज्योतिष कोरोना वायरस के बारे में बता पा रहा है। कोरोना वायरस ज्योतिष भविष्यवाणी की मानें तो ऐसा लगता नहीं कि विश्व इतनी जल्दी इस महामारी से जीत पाएगा। अप्रैल माह में एक लघु अनुसंधान करके मैंने अंग्रेज़ी में एक लेख लिखा था, जिसे यहाँ क्लिक करके पढ़ा जा सकता है-https://rationalastro.org/when-will-coronavirus-end/

चूंकि ज्योतिष के अनुसार कोविड से लड़ाई लम्बी है और अनेक लोग ज्योतिषियों से चर्चा कर रहे हैं इसलिए हम सब को यह जानना आवश्वक है कि सही ज्योतिषी के क्या लक्षण होने चाहिए।

ज्योतिषी की हमसे अपेक्षा-

एक ज्योतिषी की हमसे यही अपेक्षा रहती है कि जो भी वो हमको बता रहे हैं, उसे हम बिना प्रश्न किए सुनते रहें । यदि हमने प्रश्न किया तो ज्योतिषी जी नाराज़ हो जाऐंगे। और हमें ही मूर्ख साबित करने में लग जाऐंगे। ज्योतिषी मानते हैं कि ज्योतिष के बारे में जानकारी होने मात्र से ही वह किसी के प्रति जवाबदेही से उपर हो जाते हैं। 

किसी भी व्यक्ति की कुंडली उसके बारे में बहुत कुछ बता सकती है। ज्योतिष एक दिव्य विषय माना जाता है। यह कहा जाता है कि ज्योतिष के जानकार को कुछ विशेष ज्ञान प्राप्त होता है जिससे वह किसी की कुण्डली पढ़ पाता है। अत: ज्योतिष बहुत जिम्मेदारी का कार्य है। इसीलिए ऋषियों ने ज्योतिषियों के आचरण के लिए भी नियम बनाए हैं। सभी ज्योतिषियों से यह अपेक्षा की जाती है कि वह इन नियमों का अनुसरण करें। जो भी ज्योतिष इन नियमों का पालन नहीं करते हैं, हम उन्हें अपनी कुंडली ना दिखाएं ।

अच्छे ज्योतिषी के लक्षण और आचरण

ज्योतिषी में कुछ लक्षण और उनके आचरण से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण बातें इस प्रकार हैं:

ज्योतिष सेवा है-

ज्योतिष का इस्तेमाल सेवा के लिए किया जाना चाहिए। न कि व्यापार या पैसा कमाने के लिए । इस नियम के पीछे तर्क यह है कि यदि ज्योतिषी सेवा भाव से कुंडली नहीं पढ़ेंगे तो वह कभी भी कुंडली के अंदर निहित संदेश को पढ़ नहीं पाएंगे। बल्कि हमें गलत बातें बता कर गुमराह करेंगे। कुंडली पढ़ने में बहुत समय लगता है। यदि ज्योतिषी की चाह सिर्फ पैसा कमाने की है तो वह कम समय में कई सारी कुंडलियां पढ़ना चाहेंगे और हमारी जन्मपत्री को ध्यान से नहीं पढ़ेंगे।

ज्योतिषी की मन:स्थिति-

कुंडली पढ़ने के लिए ज्योतिषी की एक विशेष मानसिक स्थिति होनी चाहिए। यदि ज्योतिषी पैसे ले रहे हैं, तो कुंडली पढ़ना उनकी मजबूरी होगी। चाहे उनकी मानसिक स्थिति कुंडली पढ़ने के लिए तैयार है या नहीं। इस मन:स्थिति में कोई भी ज्योतिषी सही तरीके से कुण्डली नहीं पढ़ सकते हैं। 


आय के स्रोत:

ज्योतिषी के पास ज्योतिष के अलावा कोई स्थायी आय का स्रोत होना चाहिए। यदि ज्योतिषी की आय सिर्फ ज्योतिष के अभ्यास पर ही निर्भर है, तो ऐसे व्यक्ति को कुंडली नहीं दिखानी चाहिए। 


ज्योतिषी सर्वथा छात्र है-

कोई चाहे कितना भी ज्योतिष पढ़ लें, वह आजीवन एक छात्र ही रहेंगे। एक जन्म में ज्योतिष का ज्ञान होना असंभव है। यदि ज्योतिषी के साथ वार्तालाप में ऐसा लगे कि यह ज्योतिष जी छात्र कम और अहंकारी सर्वज्ञ प्राणी ज्यादा हैं, तो यह मान के चलिए कि ज्योतिषी जी ने पढ़ाई लिखाई बंद कर दी है। वह हममें असुरक्षा की भावना पैदा करके पैसा बनाना चाहते हैं। 


शैक्षणिक पृष्ठभूमि-

शैक्षणिक पृष्ठभूमि एक अच्छा ज्योतिषी होने के लिए अनिवार्य है। शैक्षणिक योग्यता वाले ज्योतिषीयों का वाक् बल सुदृढ़ रहता है। इससे वह कुंडली को अच्छे तरीके से पढ़ने में सक्षम होते हैं। यह जरूरी नहीं कि ज्योतिषी की शैक्षणिक योग्यता सिर्फ ज्योतिष विषय में ही हो। बहुत से ऐसे विद्वान ज्योतिषी हैं जो अपने अपने क्षेत्र में समाज में योगदान दे रहे हैं और ज्योतिष का भी निरंतर अभ्यास कर रहे हैं। 


तर्क का आदर-

हमें ज्योतिषी से लगातार प्रश्न और तर्क करने चाहिए। ज्योतिषी का कर्तव्य है कि वह हमारे प्रश्नों का धैर्यपूर्वक तार्किक उत्तर दें।  यदि प्रश्न करने से ज्योतिषी जी नाराज होते हैं, तो ऐसे व्यक्ति को हमें अपनी जन्मपत्री नहीं दिखानी चाहिए। 


ज्योतिष कभी डराता नहीं-

ज्योतिष में डरने या डराने जैसा कुछ नहीं होता है। यदि ज्योतिषी की किसी बात से हमारे मन में डर उत्पन्न हो रहा है, तो वहीं अपनी कुंडली दिखाना बंद कर देना चाहिए। कुछ अज्ञानी ज्योतिषी, हमें डरा कर, मन में भय पैदा करके, पैसे ऐंठने में लगे रहते हैं। यह ज्योतिष का सर्वथा दुरुपयोग है और ऐसे ज्योतिषियों से हमें दूर रहना चाहिए। 


ज्योतिषी के साथ अनुभव-

ज्योतिषी से बात करके हमें अच्छा लगना चाहिए। जीवन में एक दिशा निर्देश मिलने का अनुभव होना चाहिए। हमारा आत्मविश्वास बढ़ना चाहिए और समस्याओं को झेलने का एक नया उत्साह मन में महसूस होना चाहिए । यदि ज्योतिषी से मिलकर हमारी चिंताएं बढ़ गई हैं और कोई रास्ता या उपाय ज्योतिषी ने हमें नहीं बताया है, तो ऐसे ज्योतिषी पर सिर्फ़ समय और पैसा नष्ट होता है। 


हम और ज्योतिषी मिल के सोचें-

जब भी हम किसी ज्योतिषी को अपनी कुंडली दिखाते हैं, तो हम और ज्योतिषी मिलकर ग्रह दशा के अनुसार हमारा जीवन किस तरह चलना चाहिए, यह निर्धारित करते हैं। क्योंकि हम अपने देश, काल और पात्र को ज्योतिषी से कहीं ज्यादा जानते हैं, तो अपने भविष्य की रूपरेखा भी हम ही तय कर सकते हैं ना की ज्योतिषी। ज्योतिषी यह बताने में सहायता कर सकते हैं कि हम किस तरह के समय चक्र में हैं और ग्रहों के हिसाब से हमारा आचरण किस तरह का होना चाहिए। ज्योतिषी दशा के अनुसार उपाय भी दे सकते हैं जिससे कि हमारा मन शांत रहे और हम ठीक निर्णय लेकर समस्याओं से बाहर आ सकें। 


ज्योतिषी का अपना जीवन-

ज्योतिषी के अंदर से शांति और संपूर्णता का भाव झलकना चाहिए। यदि ज्योतिषी ही अपने जीवन में त्रस्त हैं, तो वह हमें क्या दिशा निर्देश या उपाय देंगे। 


कर्म प्रधान न कि भाग्यवादी-

ज्योतिष व्यक्ति को कर्म प्रधान बनाता है ना कि भाग्यवादी। यदि ज्योतिषी जी कहें कि हम अक्षम हैं और भाग्य पर समर्पित हैं, हमारे हाथ में कुछ नहीं है, तो मानीये कि ज्योतिषी हमें सिर्फ़ गुमराह कर रहे हैं। 


आशा करता हूं कि उपरोक्त बिंदुओं को पढ़ने के बाद हम यह तय कर पाऐंगे कि जिन ज्योतिषी को हम अपनी कुण्डली पढ़ने के लिए दे रहे हैं, वह इस लायक भी हैं कि वह हमारी कुण्डली को अच्छे से पढ़ सकें या नहीं।

ऊँ तत् सत् ।।

Anish Prasad

RationalAstro से जुड़ें

{Published on- July 12, 2020}

5 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.