Shanti Mantra/शांति मंत्र

The image represents inner peace and happiness through Shanti Mantra/शांति मंत्र

Our Vedas and Puranas mention many types of Shanti Mantra/शांति मंत्र. These mantras are extensively used in remedial Astrology.

हमारे वेदों और पुराणों मे अनेक प्रकार के शांति मंत्र बताऐ गऐ हैं। ज्योतिष उपायों की दृष्टि से इन मंत्रों को अत्यन्त उपयोगी माना गया है।

Effectiveness of Shanti Mantra/शांति मंत्र:

Doubts and anxiety are the biggest factors that keep our minds away from peace or shanti. The powerful sound intonations of the Shanti Mantra re-aligns the neuron pathways of the mind. As a result, the seemingly anxious situation appears normal to the mind. Therefore, the mind believes that there is no reason for anxiety and that it can handle the situation smoothly.

संदेह और चिंता हमारे दिमाग को peace या शांति से दूर रखने वाले सबसे बड़े कारक हैं। शांति मंत्र की शक्तिशाली ध्वनि की गूंज मन के न्यूरॉन मार्ग को फिर से संरेखित करती है। नतीजतन, चिंताजनक स्थिति मन को सामान्य लगती है। मन मानता है कि चिंता का कोई कारण नहीं है और स्थिति को सुचारू रूप से संभाला जा सकता है।

The below noted Shanti Mantra/शांति मंत्र is a rare mantra from the Rig Veda that is very effective remedy against anxiety and stress caused by unknown negative thoughts. We must try and recite it at least once a day. {Further Read: How to chant Mantras? 5 simple steps}

नीचे दिया गया शांति मंत्र ऋग्वेद का दुर्लभ मंत्र है जो मन की अज्ञात नकारात्मक धारणाओं के कारण चिंता और तनाव के खिलाफ बहुत प्रभावी उपाय माना जाता है। कृपया दिन में एक बार इसका जाप अवश्य करें।

ऊँ इडा देवहूर्मनुर्यज्ञनीर्बृहस्पतिरुक्थामदानि शग्ंसिषद्विश्र्वे देवा: सूक्तवाच: पृथिविमातर्मा मा हिग्ंसीर्मधु मनिष्ये

मधु जनिष्ये मधु वक्ष्यामि मधु वदिष्यामि मधुमतीं देवेभ्यो वाचमुद्यासग्ंशुश्रूषेण्यां मनुष्येभ्यस्तं मा देवा अवन्तु शोभायै पितरोsनुमदन्तु।।

ऊँ शांति शांति शान्ति:

Om Ida dehumanur gyanir brahaspatiruktha madaani sangsi shadvishve deva suktawa ch prithivima tarma ma hingshi madhurmanishya

madhu janishye madhu vakshyami madhu vadishyami madhumatim devebhyo. vaachmudya sangsushroshenyaam manushye bhyastamma deva avantu shobhaye pitaronumadantu.

Om Shanti Shanti Shantih

 

🙏Om Tat Sat🙏

Anish Prasad

🌻Subscribe to RationalAstro🌻

8 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.